आपकी बात

पुलिस राज के साये में भारतीय लोकतंत्र

  भारत के विधि आयोग  की  एक सौ बहत्तरवीं रिपोर्ट 14 दिसम्बर 2001 :एक समीक्षा भारत के  विधि आयोग ने स्वप्रेरणा ...

वीर सावरकर, गाँधी जी एवम् आर.एस.एस.:भाग-1

(भारत विभाजन के संदर्भ में) अनेक लोग आश्चर्य करते हैं कि भारत में हिन्दुओं के इतने बहुमत के पश्चात्, वीर सावरकर एवम् गाँधी ...

गोडसे देशभक्त थे या गद्दार, निर्णय जनता करे

भारत माता के गगनांचल रूपी आंचल में ऐसे-ऐसे नक्षत्र उद्दीप्‍त हुये हैं, जो न केवल भारत भूमि को बल्कि संपूर्ण ...

देश  के  साथ  गद्दारी  और बर्बरता में  कम्युनिस्ट  सबसे आगे  रहते हैं

देश  के  साथ  गद्दारी  में कम्‍युनिस्‍ट  सबसे आगे  रहते हैं । इन कम्‍युनिस्‍ट  गद्दारों के गद्दारों की  सूची बहुत लंबी ...

तो ये है देश का इकनॉमिक मॉडल

गुजरात में पाटीदारों ने आरक्षण के लिए जो हंगामा मचाया- जो तबाही मचायी । राज्य में सौ करोड़ से ज्यादा ...

भारत का फलता-फूलता मुकदमेबाजी उद्योग

भारतीय न्यायतंत्र उर्फ मुकदमेबाजी उद्योग ने बड़ी संख्या में रोजगार उपलब्ध करवा रखा है। देश में अर्द्ध–न्यायिक निकायों को छोड़कर ...

कन्हैया पर हो रहे हमलों का औचित्य ?

                दिल्ली के प्रतिष्ठित शिक्षण संस्थान जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय के छात्र संघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार का नाम देश ...

मायावती की जीत क्या सामाजिक न्याय की हार होगी?

मनुवादी एमके गांधी द्वारा आमरण अनशन को हथियार बनाकर बाबा साहब को कम्यूनल अवार्ड को त्यागने को मजबूर किया गया। ...

ट्रंप का क्या निकालें अर्थ?

अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव में रिपब्लिकन पार्टी के उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप हैं। ट्रंप अपने दो-टूक और सपाट बयानों के लिए ...

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) तब अौर अब-भाग 3

हिंदुत्व की बदलती व्याख्याएँ श्री गोलवलकर जी द्वारा गोडसे को आर.एस.एस. का स्वंयसेवक होने से नकारने व नेहरु तथा कांग्रेस के ...