दिल्ली के दिल में कौन ?

नई दिल्ली । जिस तरह दिल्ली के निवासियों ने आम आदमी पार्टी का सुपड़ा साफ कर दिया उससे लगता है कि वो अब आम आदमी पार्टी के झांसे में नहीं आने वाली है।

केजरीवाल के जबरजस्त कंपेन करने का कोई असर नहीं हुआ।

श्वाती मालीवाल के पिटाई जनता में रोष था और उससे अधिक रोष केजरीवाल के चुप्पी पर था।

केजरीवाल भ्रष्टाचार में जेल जाने को लेकर जनता से सहानुभूति चाहते थे मगर दिल्लीवासियों ने उन्हें कोई भाव नहीं दिया।

वहीं कांग्रेस को दिल्ली की जनता ने  दिल्ली में हो रहे कॉमनवेल्थ गेम के समय से दूरी बना ली है, लेकिन अब देखना ये है

कि केजरीवाल जनता को फ्री के झांसे में चलाने के लिए अब क्या करेगी। 

वैसे दिल्ली के भाजपा कार्यकर्ताओं में हर्ष की लहर है।

दिल्ली के सातों सीट पर भाजपा ने परचम लहरा दिया जो बहुत ही प्रशंसनीय है।

वहीं दिल्ली की चांदनी चौक लोकसभा सीट से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के उम्मीदवार प्रवीण खंडेलवाल ने कांग्रेस के नेता जेपी अग्रवाल को 89,325 मतों से हरा दिया। उत्तर-पूर्वी दिल्ली से भाजपा के उम्मीदवार मनोज तिवारी ने कांग्रेस के कन्हैया कुमार को 1,38,778 मतों के अंतर से हरा दिया। भारतीय जनता पार्टी के हर्ष मल्होत्रा ​​ने आम आदमी पार्टी के कुलदीप कुमार को 93,663 मतों के अंतर से हराकर पूर्वी दिल्ली लोकसभा सीट जीत ली।

आगे, भाजपा की बांसुरी स्वराज ने आम आदमी पार्टी (आप) के सोमनाथ भारती को 78,370 मतों के अंतर से हराकर नई दिल्ली लोकसभा सीट जीत ली। भाजपा उम्मीदवार योगेंद्र चंदोलिया ने उत्तर पश्चिम दिल्ली सीट पर अपने प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस के उदित राज को 2.90 लाख मतों से हराया। भाजपा नेता कमलजीत सहरावत ने आम आदमी पार्टी (आप) के महाबल मिश्रा को 1,99,013 मतों के अंतर से हराकर पश्चिम दिल्ली सीट पर जीत हासिल कर ली। भाजपा नेता रामवीर सिंह बिधूड़ी ने आम आदमी पार्टी (आप) के सही राम पहलवान को 1,24,333 मतों के अंतर से हराकर दक्षिण दिल्ली लोकसभा सीट पर जीत दर्ज कर लिया।

उपरोक्त जीत से भाजपा कार्यकर्ताओं में हर्ष की लहर है उनका आत्मविश्वास सातवें आसमान पर है। दिल्ली भाजपा पूरी तरह गदगद है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

*