दु:साहसी थानाध्यक्ष व उसके स​हयोगी सिपाहियों के काले करतूतों की शिकायत प्रधानमंत्री से


 रविन्द्र कुमार द्विवेदी की कलम से
 

     बरसठी थानाध्यक्ष राम सरीख गौतम (पीएनओ संख्या:960600467) व उनके साथी सिपाहियों के साथ होली के त्योहार के दिन ब्राह्मण परिवार के घर में घुसकर महिलाओं से अभद्रता, गंदी-गंदी अश्लील गालियां देने, महिलाओं पर फब्तियां कसने, परिवार के साथ मार-पीट व दुकान से पैसे के लूट-पाट का महिला ने लगाया आरोप

    परियत(जौनपुर, उप्र)। ग्राम/पोस्ट परियत की निवासी  सिंगार देवी पति भरत तिवारी जिनके पति कपड़े के व्यवशायी हैं, उनके घर के पास ही लगभग 100 मीटर के अंदर कुछ मांस व्यापारी खुले में बिना लाइसेंस के पशु-पक्षियों के मांस बेचते हैं और खुले में मांस बिक्री के कारण उनके घर में भयंकर बदबू आती है जिसके कारण उनके परिवार का सामान्य जीवन जीना दूभर हो गया है। उपरोक्त बातें उन्होंने 23 मार्च, 2022 को प्रधानमंत्री से पत्र लिखकर बताया।

    सिंगार देवी ने प्रधानमंत्री को भेजे गये पत्र में आगे लिखा है कि मांस व्यापारियों के दुकान से बचे-खुचे मांस के टुकड़े उनके छत व लॉन पर पक्षियों द्वारा लाए जाने की शिकायत किया तो मांस व्यापारी ने कहा कि हम इस काम के लिए पुलिस को पैसा देते हैं। हम अपने मांस व्यापार को अनवरत चालू रखेंगे बंद करने का तो कोई सवाल ही नहीं उठता है और किसी का बाप भी हमारा कुछ बिगाड़ नहीं सकता है। जबकि सिंगार देवी ने अपने पत्र में लिखा है कि करीब दो वर्षों से उनके परिवार वाले खुले में मांस की बिक्री से होने वाली घटना के बावत कई बार शिकायत उच्च अधिकारियों से किया परन्तु कोई कार्यवाही नहीं किया गया।  

   आगे कपड़ा व्यवशायी भरत तिवारी की पत्नी सिंगार देवी ने प्रधानमंत्री के पत्र में  लिखा है कि  18/03/2022 के करीब सुबह 08-09 बजे के बीच उपरोक्त मुल्जिमान द्वारा कई दर्जन पशुओं को काटकर बेचा जा रहा था जिससे कौवों-चीलों द्वारा मांस के टुकड़े प्रार्थिनी के छत पर और घर के लॉन में गिराए जा रहे थे जिससे उनके पति उपरोक्त मुल्जिमान से इसकी शिकायत किया तो मांस बेचने वाले ने उनके पति की बात नहीं मानी और गालियां देते हुए मांस काटने वाला हथियार को दिखाकर धमकी दिया तो उनके पति वहां से डरकर भाग गए और इस घटना की सूचना अविलंब सिंगार देवी के पति ने मुख्यमंत्री हेल्पलाइन 1076 पर शिकायत किया उसके बाद 112 नंबर पर डायल करके शिकायत किया तो दो सिपाही आये और उन्होंने सिंगार देवी के पति से थाना चलने को कहा किंतु प्रार्थिनी के पति चलने से मना किया तो सिपाही बोले कि तुम्हें चलना ही पड़ेगा और थोड़ी देर बाद लगभग 10:30 बजे बरसठी थानाध्यक्ष राम सरीख गौतम (पीएनओ संख्या:960600467) अपने 20-25 सिपाही के साथ प्रार्थिनी के घर आये उन्होंने और उन्होंने सिंगार देवी पत्नी भरत तिवारी के घर में स्वयं सिंगार देवी और उनकी एक जवान बेटी को जबरन धक्का देते हुए अंदर घुसकर उनके पति भरत तिवारी को लात-घूसें और डंडे से जोर-जोर से मारना शुरू कर दिया। 

     इस तरह थानाध्यक्ष राम सरीख गौतम (Ram Sarikh Gautam) और उनके साथीगण सिंगार देवी के पति भरत तिवारी को मारने लगे तो उनकी बेटियां बीच-बचाव करने के लिए आई तो थानाध्यक्ष राम सरीख गौतम (पीएनओ संख्या:960600467) व उसके साथी सिपाहियों में ने सिंगार देवी और उसके बेटी के बाल पकड़कर जमीन पर पटक दिया और घसीटते हुए बाहर लाए जिससे सिंगार देवी की साड़ी शरीर से उतर गई यानी वो पूरी तरह बेपर्दा हो गई। इतना ही नहीं जुल्मोंसितम की इंतहा तब हो गई जब थानाध्यक्ष रामसरीख गौतम और उसके सिपाहियों ने जानबूझकर उन्हें व उनकी बेटी को धक्का दिया, भद्दी-भद्दी, अश्लील गालियां दी, अश्लील फब्तियां कसी।

 

:                      सिंगार देवी के पति भरत तिवारी की फटी गंजी, हाथ—पैर में लगे घाव, महिलाओं की
                       टूटी—फूटी चूड़ियां गोल सर्कल में देख सकते हैं

 

—सिंगार देवी पत्नी भरत तिवारी के घर परियत में बरसठी थानाध्यक्ष राम सरीख गौतम (पीएनओ संख्या:960600467) आये उन्होंने और स्वयं सिंगार देवी और उनकी एक जवान बेटी को जबरन धक्का देते हुए घर में घुसकर उनके पति भरत तिवारी को लात-घूसें और डंडे से अनवरत मारना शुरू कर दिया। 

—थानाध्यक्ष राम सरीख गौतम (Ram Sarikh Gautam)और उनके सिपाही साथीगण सिंगार देवी के पति भरत तिवारी को मारने लगे तो उनकी बेटियां बीच-बचाव करने के लिए आई तो थानाध्यक्ष राम सरीख गौतम (पीएनओ संख्या:960600467) व उसके साथी सिपाहियों में ने सिंगार देवी और उसके बेटी के बाल पकड़कर जमीन पर पटक दिया और घसीटते हुए बाहर लाए जिससे सिंगार देवी की साड़ी शरीर से उतर गई प्रार्थिनी पूरी तरह बेपर्दा हो गई।

—थानाध्यक्ष रामसरीख गौतम (Ram Sarikh Gautam)और उसके सिपाहियों ने घर की महिलाओं को जानबूझकर धक्का दिया, भद्दी-भद्दी अश्लील गालियां दी, अश्लील फब्तियां कसी।

—जब सिंगार देवी के पति व उसके बेटी संध्या को बरसठी, जौनपुर उप्र थानाध्यक्ष राम सरीख गौतम (पीएनओ संख्या:960600467) व उनके अन्य पुलिस साथी बहुत ही निर्दयता से मार रहे थे तब किसी तरह प्रार्थिनी अपनी बेटियों के साथ मिलकर थानाध्यक्ष व अन्य सिपाहियों को दांत से काटा, सिपाही के हाथ में पंजे पर काटा और दूसरे सिपाही के चेहरे पर नाखून से खरोंच लिया क्योंकि पुलिस वाले प्रार्थिनी के पति को जान से मारने पर आमादा थे

—सिंगार देवी के कपड़े के दुकान में थानाध्यक्ष राम सरीख गौतम (Ram Sarikh Gautam) व उनके साथी सिपाहीगण घुस गये और दुकान का सामान बिखेर दिया और दुकान के गल्ले से लगभग पांच-छह दिन की बिक्री जो लगभग 35-40 हजार था तथा उनके पति भरत तिवारी के जेब से 3000 रूपये के लगभग वो भी जेब से फाड़कर निकाल लिए और जाते-जाते धमकी देकर गए कि तुम सबको ऐसी अमानवीय धाराओं में चालान करेंगे कि जमानत भी नहीं मिलेगी।

   

                                              
:                                                           सिंगार देवी के दुकान के विखरे सामान

 

      तत्पश्चात भारी शोर-शराबा सुनकर सिंगार देवी के घर के अन्य सदस्य भी आ गए। सिंगार देवी के जेठ उमाशंकर जो हृदयरोगी हैं उन्होंने बीच-बचाव किया तो पुलिस वालों ने बहुत निर्दयता पूर्वक कई थप्पड़ मारा और मारते-धक्के देते हुए उन्हें बाहर ले गए जिससे वे बेहोश हो गए उनका हार्ट फेल होते-होते बचा। 

     आगे पीएम के भेजे उपरोक्त पत्र में महिला सिंगार ने लिखा है कि जब उसके पति व बेटियों को बरसठी, जौनपुर उप्र थानाध्यक्ष राम सरीख गौतम (पीएनओ संख्या:960600467) व उनके अन्य पुलिस साथी बहुत ही निर्दयता से मार रहे थे तब किसी तरह प्रार्थिनी अपनी बेटियों के साथ मिलकर थानाध्यक्ष व अन्य सिपाहियों को दांत से काटा, सिपाही के हाथ में पंजे पर काटा और दूसरे सिपाही के चेहरे पर नाखून से खरोंच लिया क्योंकि पुलिस वाले प्रार्थिनी के पति को जान से मारने पर आमादा थे और शोर सुनकर गॉंव वाले  इकट्ठा होने लगे तो पुलिस वाले प्रार्थिनी के दुकान में घुस गये और दुकान का सामान बिखेर दिया और दुकान के गल्ले से लगभग पांच-छह दिन की बिक्री जो लगभग 35-40 हजार था तथा उनके पति भरत के जेब से 3000 के लगभग वो भी जेब से फाड़कर निकाल लिए और जाते-जाते थानाध्यक्ष धमकी देकर गए कि तुम सबको ऐसी अमानवीय धाराओं में चालान करेंगे कि जमानत भी नहीं मिलेगी। 

     तत्पश्चात सिंगार देवी के पति भरत ने घटना की सूचना मुख्यमंत्री के हेल्पलाइन 1076 पर अविलंब किया लेकिन आज-तक कोई कार्यवाही नहीं हुई है। पुलिसवालों व मांस व्यापारी से मिली-भगत से  भरत तिवारी का परिवार बहुत आतंकित व डरा हुआ है, उनके परिवार पर अभी भी जान-माल का खतरा बना हुआ है।

   सिंगार देवी ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से विनम्र निवेदन किया है  कि थानाध्यक्ष राम सरीख गौतम (पीएनओ संख्या:960600467) और उनके साथ कुछ पुलिस वाले जिन्हें मेरे पति जानते हैं उनका नाम है : 1- सिपाही महेश चौधरी, 2-अश्वनी कुमार, 3-सिपाही राजू 4-सिपाही चंचल यादव जो बहुत गंदी-गंदी गाली दे रहा था व अन्य अनाम सिपाही आदि तथा करिया डफाली पुत्र नजीर डफाली, पिंटू पुत्र करिया, मेराज, मजहर पुत्रगण अज्ञात व अन्य तीन अज्ञात के विरूद्ध संबंधित धाराओं में मुकदमा दर्ज करवाने की कृपा करें।