विधानसभा चुनाव

असाधारण चुनाव के असाधारण नतीजे

"हमारा अतीत हमारे वर्तमान पर हावी होकर हमारे भविष्य पर प्रश्न चिह्न लगा देता है " , एक कटु सत्य ...

मजहबी राजनीति पर लगाम

लोकसभा चुनाव हो या विधानसभाओं के, पंचायत के चुनाव हों या स्थानीय निकायों के, चाहे बार काउंसिल का चुनाव हो ...

करुणानिधि के अवाक करते अंदाज की असलियत में अखिलेश का यादवी अक्स

 राजनीति में रिश्तोंदारों का कुनबा खड़ा करने में करुणानिधि तो मुलायम सिंह यादव से भी ज्यादा मजबूत रहे हैं। लेकिन ...

कुनबे की कलह से ढहेगा समाजवादी साम्राज्य

समसामयिक: अखिलेश यादव के पार्टी से निष्कासन पर विशेष  ‘वंशवाद’शब्द नेहरू-गांधी परिवार की निंदा के लिए विद्वत्ता का मुखौटा लगाने का ...

सियासी नौंटकी का फोकटिया प्रचार

बचपन में एक कहानी पढ़ी थी किस तरह बीमार बेटे हुमांयू की जान बचाने के लिए वालिद बाबर ने अल्लाह ...

न विचार न सिद्धांत: केवल सत्ता महान?

                        हमारे देश में नेताओं द्वारा सत्ता की लालच में अथवा अपने निजी राजनैतिक लाभ हेतु दल-बदल किए जाने का ...

अरुणाचलः अधूरा फैसला

अरुणाचल के बारे में जो फैसला सर्वोच्च न्यायालय ने दिया है, वह एतिहासिक है लेकिन मेरी राय में वह अधूरा ...

चुनावबाजी से चैन कैसे मिले ?

लोकसभा और विधानसभाओं के चुनाव साथ-साथ करवाने के फायदे अनगिनत हैं लेकिन बिल्ली के गले में घंटी बांधे कौन? विधि ...

झूठी प्रशंसा का ढिंढोरा पीटने के यह माहिर रणनीतिकार

                 केंद्र में सत्तारूढ़ नरेंद्र मोदी सरकार ने अपने कार्यकाल के दो वर्ष पूरे ...

ममताः पीएम पद की नई दावेदार!

प. बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी कहती हैं कि मुझे वीआईपी मत कहो। एलआईपी कहो। याने ‘लेस इंपॉर्टेंट परसन’। अर्थात ...