मीडिया

जिद्दी खबरों का आईना

वो भी संघर्ष करती है, मंदिर-मस्जिद की लाइन-सी मशक्कत करती है, वो भी इतिहास के पन्नों में जगह बनाने के ...

भोपाल की मुठभेड़: खोखले तर्कों के तीर

      भोपाल की जेल से भागनेवाले आतंकियों को मारकर मप्र की पुलिस ने अनुकरणीय काम किया है। उसने ...

पत्रकारिता : मानक नहीं मान्यता बदलना होगी

तेज गति से चलने वाले जनजीवन में पत्रकारो और पत्रकारिता का महत्व क्षणे-क्षणे कमतर होता जा रहा है, जनसामान्य ना ...

पत्रकार हैं पक्षकार नही

                                        ...

किन्हें नाज है मीडिया पर : पार्ट-2

तो ये सच शरु होता है दिल्ली के एक सितारा होटल में चाय पीते दो पत्रकार और ठीक सामने के ...

सोशल मीडिया पर लोक कुछ यूँ ही अपने दर्द बयाँ कर रहे हैं

बात सेना के बंकर को तोड़ने की नही , बात है सेना के मनोबल को तोड़ने की !!! मेरी समझ से ...

अंधेरे में ‘चौथा स्तंभ ?

देश के स्वयंभू 'लोकतंत्र के चौथे स्तंभ  में एक भूचाल सा आया दिखाई दे रहा है। जिस मीडिया से आम ...

पत्रकारिता करते हुये भी पत्रकार बने रहने की चुनौती

पत्रकारिता मीडिया में तब्दील हो जाये। मीडिया माध्यम माना जाने लगे। माध्यम सत्ता का सबसे बेहतरीन हथियार हो जाये। तो ...

करियर के पहले संपादक ने सिखाया , “पत्रकारिता जीने का तरीका है”

मौजूदा दौर में पत्रकारिता करते हुये पच्चीस-छब्बीस बरस पहले की पत्रकारिता में झांकना और अपने ही शुरुआती करियर के दौर ...

सत्ता से दो दो हाथ करते करते मीडिया कैसे सत्ता के साथ खडा हो गया

अमेरिका में रुपर्ट मर्डोक प्रधानमंत्री मोदी से मिले तो मड्रोक ने मोदी को आजादी के बाद से भारत का सबसे ...