देश की समस्या

धर्मग्रंथ बड़ा है कि राष्ट्रग्रंथ ?

तीन तलाक के बारे में हमारे सर्वोच्च न्यायालय ने अभी जो शुरुआती विचार रखा है, उसी पर देश के विचारकों ...

बड़ी अदालत में बड़ा अन्याय

भारत की अदालतें जादू-टोना घर बनी हुई हैं। भारत-जैसे पूर्व गुलाम देशों की यही दुर्दशा है। अंग्रेजों की बनाई (अ) ...

सुकमा की शहादत का मुंहतोड़ जबाव हो

                छत्तीसगढ़ के सुकमा क्षेत्र में नक्सलवादियों ने 26 सीआरपीएफ जवानों की नृशंस हत्या करके करोड़ों देशवासियों को आहत किया ...

‘नोटबंदी’ के बाद ‘बत्ती बंदी’ यानी बड़ा फैसला…

इसे कहते हैं निर्णय लेना और उसे अमल में लाना..जी हाँ, केन्द्र में आसीन मोदी सरकार ने सरकारी तंत्र की ...

पत्थरफेंकुओं पर गज़ब की पहल

इन हताश और निराश नेताओं से मुझे तो यह उम्मीद थी कि वे फौज की इस जबरदस्त पहल की तारीफ ...

यह हमारी मातृभूमि है रैनबसेरा या सराय नहीं

-  डॉ. दीपक आचार्य यह देश हमारा है। न यह धर्मशाला है और न ही रैनबसेरा। न अजायबघर-चिड़ियाघर है, न मौज-मस्ती ...

भोजन की बर्बादी एक त्रासदी है

हर रविवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी संवेदनशील एवं सामाजिक हो जाते हैं। देश की जनता से ‘मन की बात’ करते ...

गधा, गरीब, सत्ता और चुनाव

तो नासा ने पहली बार घरती के आकार के ऐसे सात ग्रहों का पता लगाया है...जहां जिन्दगी ममुकिन है। क्योंकि ...

भंसाली की पदमावती को लेकर उठा विवाद

        पिछले दिनों दो ऐसी घटनाएँ हुई हैं जिनकी निन्दा किया जाना जरुरी है । 19 जनवरी को केरल के ...

विष-वृक्ष की जडों के पोषण और पत्तों के डिजिटलाइजेशन की त्रासदी

        भारत में ‘काला धन’ और ‘काली कमाई’ वस्तुतः दुनिया भर से सारे धन बटोर लेने-हडप लेने को आतुर युरोपीय उपनिवेशवाद ...