साप्ताहिक पंचाग, वास्तु व राशिफल क्रमश: जानिये कैसा रहेगा आज आपका दिन

ज्योतिषाचार्य गोपी राम 

आज का पंचाग 🧾

              मंगलवार  23 जुलाई  2024

 

हनुमान जी का मंत्र : हं हनुमते रुद्रात्मकाय हुं फट् ।

 

🌌 दिन (वार) – मंगलवार के दिन क्षौरकर्म अर्थात बाल, दाढ़ी काटने या कटाने से उम्र कम होती है। अत: इस दिन बाल और दाढ़ी नहीं कटवाना चाहिए ।

मंगलवार को हनुमान जी की पूजा और व्रत करने से हनुमान जी प्रसन्न होते है। मंगलवार के दिन हनुमान चालीसा एवं सुन्दर काण्ड का पाठ करना चाहिए।

मंगलवार को यथासंभव मंदिर में हनुमान जी के दर्शन करके उन्हें लाल गुलाब, इत्र अर्पित करके बूंदी / लाल पेड़े या गुड़ चने का प्रशाद चढ़ाएं । हनुमान जी की पूजा से भूत-प्रेत, नज़र की बाधा से बचाव होता है, शत्रु परास्त होते है।

🌐 संवत्सर    क्रोधी

📖 संवत्सर (उत्तर)   कालयुक्त

🧾 विक्रम संवत        2081 विक्रम संवत

🔮 गुजराती संवत      2080 विक्रम संवत

☸️ शक संवत          1946 शक संवत

☪️ कलि संवत         5125 कलि संवत

🕉️ शिवराज शक 351

☣️ आयन – दक्षिणायन

☀️ ऋतु – सौर वर्षा ऋतु

🌤️ मास – श्रावण मास

🌔 पक्ष – कृष्ण पक्ष

📆 तिथि – मंगलवार श्रावण माह के कृष्ण पक्ष द्वितीया तिथि 10:23 AM तक उपरांत तृतीया

✏️ तिथि का स्वामी – द्वितीया तिथि के स्वामी भगवान ब्रह्मा जी है । द्वितीया तिथि के स्वामी सृष्टि के रचियता भगवान ‘ब्रह्मा’ जी हैं। इसका विशेष नाम ‘सुमंगला’ है। यह भद्रा संज्ञक तिथि है।

💫 नक्षत्र – नक्षत्र धनिष्ठा 08:18 PM तक उपरांत शतभिषा

🪐 नक्षत्र स्वामी – धनिष्ठा नक्षत्र का स्वामी मंगल हैं और देवता वसु हैं। इस नक्षत्र के अधिष्ठाता देव अष्ट वसवाल हैं और राशि स्वामी शनि हैं।

⚜️ योग – आयुष्मान योग 02:35 PM तक, उसके बाद सौभाग्य योग

⚡ प्रथम करण : गर – 10:23 ए एम तक

✨ द्वितीय करण : वणिज – 08:56 पी एम तक विष्टि

🔥 गुलिक काल : मंगलवार का गुलिक दोपहर 12:06 से 01:26 बजे तक।

🤖 राहुकाल (अशुभ) – दोपहर 15:13 बजे से 16:35 बजे तक। राहु काल में शुभ कार्य करना वर्जित माना गया है।

⚜️ दिशाशूल – मंगलवार को उत्तर दिशा की यात्रा नहीं करनी चाहिये, यदि अत्यावश्यक हो तो कोई गुड़ खाकर यात्रा कर सकते है।

🌞 सूर्योदयः- प्रातः 05:20:00

🌅 सूर्यास्तः- सायं 06:40:00

👸🏻 ब्रह्म मुहूर्त : 04:15 ए एम से 04:56 ए एम

🌇 प्रातः सन्ध्या : 04:36 ए एम से 05:38 ए एम

🌟 अभिजित मुहूर्त : 12:00 पी एम से 12:55 पी एम

🔯 विजय मुहूर्त : 02:44 पी एम से 03:39 पी एम

🐃 गोधूलि मुहूर्त : 07:17 पी एम से 07:38 पी एम

🏙️ सायाह्न सन्ध्या : 07:17 पी एम से 08:19 पी एम

💧 अमृत काल : 10:47 ए एम से 12:15 पी एम

🗣️ निशिता मुहूर्त : 12:07 ए एम, जुलाई 24 से 12:48 ए एम, जुलाई 24

🌸 द्विपुष्कर योग : 05:38 ए एम से 10:23 ए एम

🚓 यात्रा शकुन-दलिया का सेवन कर यात्रा पर निकलें।

👉🏽 आज का मंत्र-ॐ अं अंगारकाय नम:।

💁🏻 आज का उपाय-हनुमान मंदिर में लाल फल चढ़ाएं।

🪵 वनस्पति तंत्र उपाय- खैर के वृक्ष में जल चढ़ाएं।

⚛️ पर्व एवं त्यौहार : पंचक प्रारंभ 09. 20/भद्रा/फलद्वितीया/ लोकमान्य व स्वतंत्रता सेनानी बाल गंगाधर तिलक जयन्ती, पार्श्व गायक हिमेश रेशमिया जन्म दिवस, लोकप्रिय स्वतंत्रता सेनानी चंद्रशेखर आजाद जयन्ती, राष्ट्रीय प्रसारण दिवस, स्प्रिंकल डे, पीनट बटर, चॉकलेट डे, विश्व स्जोग्रेन दिवस, राष्ट्रीय वेनिला आइसक्रीम दिवस, राष्ट्रीय भव्य दादी दिवस

✍🏼 विशेष – द्वितीया तिथि को कटेरी फल का तथा तृतीया तिथि को नमक का दान और भक्षण दोनों ही त्याज्य बताया गया है। द्वितीया तिथि सुमंगला और कार्य सिद्धिकारी तिथि मानी जाती है। इस द्वितीया तिथि के स्वामी भगवान ब्रह्माजी को बताया गया है। यह द्वितीया तिथि भद्रा नाम से विख्यात मानी जाती है। यह द्वितीया तिथि शुक्ल पक्ष में अशुभ तथा कृष्ण पक्ष में शुभ फलदायिनी होती है।

 

            🏘️ वास्तु ज्ञान 🏚️

 

वास्तु के अनुसार कभी भी मंदिर में लाल रंग का बल्ब नहीं लगाना चाहिए। इससे तनाव की स्थिति बन सकती है। इसलिए सफेद रंग का बल्ब लगाएं। इसके अलावा मंदिर में कभी भी पूर्वजों की फोटो न लगाए। वास्तु के अनुसार एक ही भगवान की कई सारी तस्वीरें भी मंदिर में नहीं रखनी चाहिए।

वास्तु के अनुसार पूजा में उपयोग होने वाले बर्तनों को हमेशा साफ रखें। इन्हें सभी बर्तनों से अलग रखना चाहिए। वास्तु के अनुसार देवी-देवताओं की प्रतिमा रोजाना साफ करें, इससे सुख-समृद्धि बनी रहती है।

 

          🔐 जीवनोपयोगी कुंजियां ⚜️

 

तेल के कुल्ले करने के क्या फायदे हैं?

तेल से कुल्ला करने से हमें दांतो से संबंधित और अन्य कई बीमारियों में फायदा मिलता है। पहले जमाने में लोग रोजाना तेल के कुल्ले किया करते थे। परंतु आजकल इसका प्रचलन बहुत कम हो गया है। लेकिन पश्चिमी देशों में अभी भी लोग तेल के कुल्ले करते हैं।

इसके लिए कोई भी तेल जैसे कि बादाम का, तिल का ,नारियल का या फिर सरसों का तेल भी आप ले सकते हैं। एक चम्मच तेल लेकर मुंह में पांच 7 मिनट के लिए घुमाए।जब आप तेल को अपने मुंह में घुमाएंगे तो मुंह में सफेद -सफेद रंग का कुछ पदार्थ भर जाएगा।

इसे आपने अपने मुंह के अंदर नहीं लेकर जाना है। आप इस तेल को पांच 7 मिनट कुल्ला करने के बाद बाहर थूक दे। फिर उसके बाद गर्म पानी से कुल्ला कर ले। इस क्रिया को आपने खाली पेट करना है।

इससे आपके शरीर के अंदर जो भी जहरीले पदार्थ होंगे वे इस तेल के माध्यम से बाहर आ जाएंगे। एक-दो दिन आपको थोड़ा सा असाधारण भी लग सकता है। परंतु घबराने की कोई बात नहीं है।एक-दो दिन के बाद यह सामान्य हो जाता है और आपकी बीमारियां धीरे- धीरे ठीक होने लगती हैं।

 

         💉 आरोग्य संजीवनी 🩸

 

पेठे का रस

🔸सफेद पेठा (प्रचलित नाम – कुम्हड़ा, गुजराती – भूरूं कोहलु, मराठी – कोहळा, अंग्रेजी – Ash Gourd) आयुर्वेद के अनुसार अत्यंत लाभदायी फल, सब्जी तथा अनेकों रोगों में उपयोगी औषधि भी है ।

🔸यह रस में शीतल, पित्त एवं वायु का शमन करनेवाला, शरीर पुष्टिकर, वजन बढ़ाने में सहायक एवं वीर्यवर्धक है ।

🔸यह अम्लपित्त (hyperacidity), शरीर की जलन, सिरदर्द, नकसीर (नाक से खून आना), टी.बी. के कारण कफ के साथ खून आना, खूनी बवासीर, मूत्र की रुकावट एवं जलन, नींद की कमी, प्यास की अधिकता, श्वेतप्रदर एवं अत्यधिक मासिक स्राव आदि पित्तजनित समस्याओं में अक्सीर औषधि है ।

🔸आधुनिक अनुसंधानों के अनुसार यह कैल्शियम, आयरन, जिंक एवं मैग्नेशियम का अच्छा स्रोत है । इसमें निहित एंटी ऑक्सीडेंट मधुमेह (diabetes), उच्च रक्तचाप (High B.P.), कैंसर आदि रोगों से सुरक्षा करने में सहायक है ।

 

              📖 गुरु भक्ति योग 🕯️

 

       शिव अघोरी शिव तंत्र के देवता हैं- इन्हें आदि अघोरी यानी संसार का पहला अघोरी भी कहा जाता हैं। पौराणिक मत हैं कि- अघोर वो हैं जिसकी बुद्धि और व्यवहार में कोई भेदभाव ना हो जिनकी बुद्धि में दूसरों के लिए भेदभाव होते हैं वो लोग घोर यानी भयंकर होते हैं शिव अघोरी हैं यानी ''सौम्य स्वभाव'' के हैं सबके लिए एक समान हैं सारे देवताओं की पूजा में सामग्रियों का विशेष महत्व होता हैं अकेले शिव हैं जिनकी पूजा की सामग्रियों में सबसे कम सावधानियां हैं। उन्हें सिर्फ जल चढ़ाकर भी प्रसन्न किया जा सकता हैं। भांग धतूरा जैसी वो चीजें जो किसी भी पूजा में शामिल नहीं की जाती हैं वो शिव को चढ़ाकर मनाया जा सकता हैं ''शिव मन के देवता'' हैं शिव पुराण कहता हैं- कि शिव आपके काम कम और मन के भाव ज्यादा देखते हैं अगर अच्छे मन से कुछ चढ़ाएंगे तो उन्हें वो सब स्वीकार हैं। अगर बिना शुद्ध भावों के छप्पन भोग भी लगाएंगे तो शिव को वो मंजूर नहीं हैं ''शिव सरल स्वभाव'' को पसंद करते हैं।

         शिव चंद्रशेखर हमेशा अपने क्रोध पर नियंत्रण हो व्यवहार में शीतलता का संदेश देते हैं चंद्रशेखर या आशुतोष दोनों के अर्थ समान हैं जिसने अपने शिखर यानी माथे पर चंद्र को धारण किया हैं वो चंद्रशेखर हैं। शिव के इस नाम में उनका स्वभाव छिपा हैं चंद्रमा को सिर पर धारण करना यानी दिमाग को हमेशा ठंडा रखना चंद्रमा शीतलता का प्रतीक हैं सिर पर चंद्रमा का होना स्पष्ट करता हैं कि शिव के स्वभाव में शीतलता हैं बहुत कम प्रसंग मिलते हैं- जब शिव ने क्रोध किया हो बहुत से राक्षसों का संहार करते समय भी शिव ने कभी क्रोध नहीं किया- रामायण की कहानी हैं कि- रावण ने शिव को कैलाश से लंका ले जाना चाहा उसने सोचा कि मैं शिव को मनाकर ले जाऊंगा उसने कैलाश पर्वत को अपने हाथों से उठाने की कोशिश की जब शिव ने ये देखा कि रावण कैलाश सहित उठाकर लंका ले जाना चाहता हैं तो उन्होंने अपने पैर के अंगूठे से कैलाश को दबा दिया और रावण का हाथ वहीं दबा रह गया तब रावण को महसूस हुआ कि उसने शिव को क्रोधित कर दिया हैं। वास्तव में भगवान उस समय भी मुस्कुरा रहे थे रावण ने ''शिव तांडव स्तोत्र'' की रचना कर शिव को सुनाई और शिव ने अपने पैर का अंगूठा हटाकर रावण को मुक्त कर दिया शिव कभी विचलित नहीं होते हमेशा स्थिर रहते हैं। यही कारण हैं कि उन्हें ''चंदशेखर'' कहा जाता हैं।

 

※══❖═══▩ஜ ۩۞۩ ஜ▩═══❖══※

 

⚜️ प्रजापति व्रत दूज को ही किया जाता है तथा किसी भी नये कार्य की शुरुआत से पहले एवं ज्ञान प्राप्ति हेतु ब्रह्माजी का पूजन अवश्य करना चाहिये। वैसे तो मुहूर्त चिंतामणि आदि ग्रन्थों के अनुसार द्वितीया तिथि अत्यन्त शुभ फलदायिनी तिथि मानी जाती है। परन्तु श्रावण और भाद्रपद मास में इस द्वितीया तिथि का प्रभाव शून्य हो जाता है। इसलिये श्रावण और भाद्रपद मास कि द्वितीया तिथि को कोई भी शुभ कार्य नहीं करना चाहिये।

 

                  🙏🏻 नमस्कार 🙏🏻

ईश्वर से मेरी प्रार्थना है कि आपके एवं आपके पूरे परिवार के लिए हर दिन शुभ एवं मंगलमय हों।

 

👉🏽 23 जुलाई 2024 : को आज श्रावण कृष्ण पक्ष की उदया तिथि द्वितीया और मंगलवार का दिन है। द्वितीया तिथि मंगलवार सुबह 10 बजकर 24 मिनट तक रहेगी, उसके बाद तृतीया तिथि लग जाएगी। 23 जुलाई  को दोपहर 2 बजकर 36 मिनट तक आयुष्मान योग रहेगा। साथ ही मंगलवार को रात 8 बजकर 18 मिनट तक धनिष्ठा नक्षत्र रहेगा। इसके अलावा 23 जुलाई को मंगला गौरी व्रत किया जाएगा।आइए जानते हैं आचार्य श्री गोपी राम से राशि अनुसार कैसे रहेगा आपका आज का दिन और किन उपाय से बेहतर बना सकते हैं आज का दिन।

 

🐑 मेष राशि : आज कोई परिज़न आपकी भावनाओं को ठेस पहुंचाने का प्रयास कर सकता है. किसी से आपको अत्यधिक अपेक्षा रखने से बचना होगा. भावनात्मक कम बनावटी पर अधिक दिखेगा. दांपत्य जीवन में जीवनसाथी का आपके प्रति विशेष लगाव एवं प्रेम बना रहेगा. कार्य क्षेत्र में किसी अभिन्न मित्र से आपको भावनात्मक सपोर्ट मिलेगा. समाज में आपके द्वारा किए जा रहे सामाजिक कार्य के प्रति प्रशंसा एवं सम्मान प्राप्त होगा.

🪶 उपाय :- आज गणेश जी की आराधना करें. सात प्रकार का अनाज पक्षियों को खिलाएं.

 

🐂 वृषभ राशि : आज किसी विपरीत लिंग साथी के प्रति विशेष आकर्षण एवं प्रेम का भाव मन में बढ़ेगा. कार्य क्षेत्र में आपकी सरल एवं ईमानदार कार्य शैली और मधुर व्यक्तित्व का ऐसा आकर्षण रहेगा कि लोग आपकी ओर खिंचे चले आएंगे. प्रेम संबंधों में एक दूसरे के प्रति विश्वास एवं भरोसा बढ़ेगा. अविवाहित लोगों को विवाह से संबंधित शुभ समाचार मिलेगा. दांपत्य जीवन में मधुरता पड़ेगी. परिवार में आपके त्याग एवं जिम्मेदारियां के निर्भर होने को लेकर सभी परिजन आपकी प्रति श्रद्धा अवनत रहेंगे .

🪶 उपाय :- आज हनुमान जी को केसर के साथ घिसा लाल चंदन लगाएं.

 

👩‍❤️‍👨 मिथुन राशि : आज प्रेम संबंधों में जोखिम लेना पड़ सकता है. अतः अपने मान सम्मान एवं शारीरिक स्वास्थ्य की को दृष्टिगत रखकर इस संबंध में कोई जोखिम उठाएं. कोर्ट कचहरी के मामले में सफलता मिलेगी. गृहस्थ जीवन में आया तनाव आपसी बात करने से हल होगा. राजनीति में किसी विशेष व्यक्ति का सहयोग एवं सानिध्य मिलेगा. परिवार में कोई ऐसी घटना घट सकती है जिससे आपके प्रति परिजनों का लगाव बढ़ेगा.

🪶 उपाय :- आप खादिर, आक, पीपल , वृक्ष लगाए और उन्हें पोषित करें.

 

🦀 कर्क राशि : आज दांपत्य जीवन में पति-पत्नी के मध्य पारिवारिक मामलों को लेकर परेशानियां बढ़ सकती है. प्रेम संबंधों में परस्पर एक दूसरे के साथ मध्य मतभेद बढ़ सकते हैं. जिससे विश्वास में कमी हो सकती है. प्रेम संबंधों में संदेहास्पद स्थिति से बचें. परस्पर एक दूसरे के प्रति विश्वास की भावनाओं को बनाए रखने की कोशिश करें. परिवार में अकारण वाद विवाद हो सकता है. आप अपनी कटु वाणी एवं क्रोध पर संयम रखें.

🪶 उपाय :- शिवजी पर जल चढ़ाएं. शिव जी का अभिषेक करें.

 

🦁 सिंह राशि : आज प्रेम संबंध में चले आ रही गतिरोध सुलझाने की संभावना रहेगी. क्रोध एवं वाणी पर संयम रखें. दांपत्य जीवन में घरेलू वातावरण में शांति में बनाने की कोशिश करें. साथी की भावनाओं को समझने की कोशिश करें. माता-पिता से भेंट हो सकती है. किसी अभिन्न मित्र से शुभ समाचार मिलेगा. समाज में आपके द्वारा किए जा रहे अच्छे कार्यों की सराहना होगी. लोग आपसे प्रेरित, आकर्षित होंगे.

🪶 उपाय :- आज बहन, बुआ, मौसी से आशीर्वाद प्राप्त करें.

 

👰🏻‍♀ कन्या राशि : आज प्रेम विवाह की अभिलाषा पूरी होगी. कार्यक्षेत्र में किसी साथी से निकटता बढ़ेगी. माता से वस्त्र एवं उपहार मिलने से मन बहुत प्रसन्न रहेगा. परिवार में कोई ऐसी शुभ घटना घट सकती है. जिससे परिवार में खुशियों का संचार होगा. दांपत्य जीवन में आया तनाव दूर होने से मन में शांति का अनुभव करेंगे. आध्यात्मिक कार्य में अभिरुचि रहेगी. किसी तीर्थ यात्रा पर परिवार के साथ जाने का कार्यक्रम बनेगा.

🪶 उपाय :- माता दुर्गा की पूजा करें. हलवे और चने का भोग लगाएं.

 

⚖️ तुला राशि : आज प्रेम संबंधों के क्षेत्र में अनावश्यक परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है. अपने धैर्य को बनाए रखें. प्रेम संबंध में तीसरे व्यक्ति के कारण तनाव बढ़ सकता है. दांपत्य जीवन में सुख सहयोग में कमी का आभास होगा. एक दूसरे की आवश्यकता को समझने का प्रयास करें. माता-पिता से अकारण अनबन हो सकती है. किसी पुराने मित्र से दूर जाना पड़ सकता है. समाज में आपके द्वारा किए जा रहे अच्छे कार्य के लिए आपको सम्मानित किया जा सकता है.

🪶 उपाय :- आज घर में बनी पहली रोटी गाय को खिलाएं. गणेश जी के मंत्र का पाठ करें.

 

🦂 वृश्चिक राशि : आज प्रेम संबंध में भावनात्मक लगाव बढ़ेगा. तनाव से बचने की कोशिश करें. संयम रखें. कार्यक्षेत्र में किसी साथी से कोई सुखद समाचार मिलेगा. किसी अभिन्न मित्र से सहयोग, सानिध्य पाकर अभिभूत हो जाएंगे. माता-पिता की सेवा करें. भाई बहनों से आत्मीयता बढ़ेगी. सामाजिक कार्य में सक्रिय भूमिका अदा करेंगे. परिवार में किसी मांगलिक कार्य की रूपरेखा बनेगी.

🪶 उपाय :- बृहस्पति यंत्र की हल्दी से पांच बार पूजा करें.

 

🏹 धनु राशि : आज पारिवारिक संबंधों में आया तनाव दूर होगा. आपसी प्रेम एवं विश्वास में वृद्धि होगी. किसी महत्वपूर्ण व्यक्ति से भेंट होगी. राजनीतिक क्षेत्र में जनता का सहयोग एवं समर्थन प्राप्त होने से मनोबल बढ़ेगा. किसी अभिन्न मित्र से शुभ समाचार मिलेगा. प्रेम संबंधों में मधुरता आएगी.

🪶 उपाय :- सूर्य भगवान को प्रतिदिन जल चढ़ाएं.

 

🐊 मकर राशि : आज प्रेम संबंधों में पीछे से चले जा रहे मतभेद कम होंगे. अधिक भावुकता से बचें. परस्पर एक दूसरे के मध्य सुख सहयोग बना रहेगा. भावनात्मक लगाव में वृद्धि होगी. दांपत्य जीवन में सुख शांति बनी रहेगी. बच्चों की पढ़ाई के संबंध में बातचीत करनी पड़ सकती है. सामाजिक कार्य में अभिरुचि रहेगी. किसी अभिन्न मित्र से भेंट कर अत्यंत प्रसन्नता होगी. परिवार में किसी नए सदस्य का आगमन होगा.

🪶 उपाय :- आज माता बगलामुखी की पूजा आराधना करें.

 

⚱️ कुम्भ राशि : आज प्रेम संबंध में प्रगाढ़ता आएगी. किसी साथी से विशेष सहयोग एवं साथ प्राप्त होगा. दांपत्य जीवन में आपस में एक दूसरे के प्रति विशेष आकर्षण का भाव रहेगा. अपने जीवनसाथी पर गर्व होगा. समाज में आपके जीवनसाथी की सुंदरता एवं आकर्षक व्यक्तित्व होने के कारण सभी ओर उनकी चर्चा होगी. जिससे आपको अपार प्रसन्नता होगी. संतान पक्ष से कोई शुभ समाचार मिलेगा.

🪶 उपाय :- आज किसी से धोखा जालसाजी न करें.

 

🐬 मीन राशि : आज नए दोस्तों के संग गीत संगीत मनोरंजन का लुफ्त उठाएंगे. आप गृहस्थ जीवन संबंधी बातों को नए दोस्तों को बताने से बचें. प्रेम विवाह के इच्छुक लोगों को अभी इंतजार करना पड़ेगा. परिवार में कोई मांगलिक कार्यक्रम संपन्न होगा. जिससे आपको प्रसन्नता होगी. आप संबंधों में धन कम भावनाओं को अधिक महत्व देंगे. आध्यात्मिक कार्य में अभिरुचि रहेगी.

🪶 उपाय :- बकुल का वृक्ष लगाए और पोषित करें.

 

 

——————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————

 

: आज का पंचाग 🧾           

            सोमवार  22 जुलाई  2024

 

महा मृत्युंजय मंत्र – ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्‌। उर्वारुकमिव बन्धनान्मृत्योर्मुक्षीय माऽमृतात्।।

 

☄️ दिन (वार) – सोमवार के दिन क्षौरकर्म अर्थात बाल, दाढ़ी काटने या कटाने से पुत्र का अनिष्ट होता है शिवभक्ति को भी हानि पहुँचती है अत: सोमवार को ना तो बाल और ना ही दाढ़ी कटवाएं ।

सोमवार के दिन भगवान शंकर की आराधना, अभिषेक करने से चन्द्रमा मजबूत होता है, काल सर्प दोष दूर होता है।

सोमवार का व्रत रखने से मनचाहा जीवन साथी मिलता है, वैवाहिक जीवन में लम्बा और सुखमय होता है।

जीवन में शुभ फलो की प्राप्ति के लिए हर सोमवार को शिवलिंग पर पंचामृत या मीठा कच्चा दूध एवं काले तिल चढ़ाएं, इससे भगवान महादेव की कृपा बनी रहती है परिवार से रोग दूर रहते है।

सोमवार के दिन शिव पुराण के अचूक मन्त्र “श्री शिवाये नमस्तुभ्यम’ का अधिक से अधिक जाप करने से समस्त कष्ट दूर होते है. निश्चित ही मनवाँछित लाभ मिलता है।

🌐 शुभ हिन्दू नववर्ष 2024 संवत्सर   क्रोधी

📖 संवत्सर (उत्तर)   कालयुक्त

🧾 विक्रम संवत        2081 विक्रम संवत

🔮 गुजराती संवत      2080 विक्रम संवत

☸️ शक संवत          1946 शक संवत

☪️ कलि संवत         5125 कलि संवत

🕉️ शिवराज शक 351

☣️ आयन – दक्षिणायन

☀️ ऋतु – सौर वर्षा ऋतु

🌤️ मास – श्रावण मास प्रारंभ

🌔 पक्ष – कृष्ण पक्ष

📆 तिथि – सोमवार श्रावण माह के कृष्ण पक्ष प्रतिपदा तिथि 01:11 PM तक उपरांत द्वितीया

🖍️ तिथि स्वामी – प्रतिपदा तिथि के देवता हैं अग्नि। इस तिथि में अग्निदेव की पूजा करने से धन और धान्य की प्राप्ति होती है।

💫 नक्षत्र – नक्षत्र श्रवण 10:21 PM तक उपरांत धनिष्ठा

🪐 नक्षत्र स्वामी : श्रवण नक्षत्र का स्वामी शनि ग्रह है। श्रवण नक्षत्र का देवता भगवान विष्णु को माना गया है।

⚜️ योग – प्रीति योग 05:58 PM तक, उसके बाद आयुष्मान योग

⚡ प्रथम करण : कौलव – 01:11 पी एम तक

✨ द्वितीय करण : तैतिल – 11:48 पी एम तक गर

🔥 सोमवार का शुभ गुलिक कालः-शुभ गुलिक काल 01:42:00 P.M से 02:59:00 P.M बजे तक

⚜️ दिशाशूलः- आज के दिन पूर्व दिशा की यात्रा नहीं करना चाहिए यदि यात्रा करना ज्यादा आवश्यक हो तो घर से दर्पण देखकर या दूध पीकर जायें।

🤖 राहुकालः- आज का राहु काल 08:31:00 A.M से 09:49:00 A.M बजे तक

🌞 सूर्योदयः- प्रातः 05:18:00

🌅 सूर्यास्तः- सायं 06:40:00

👸🏻 ब्रह्म मुहूर्त : 04:15 ए एम से 04:56 ए एम

🌇 प्रातः सन्ध्या : 04:35 ए एम से 05:37 ए एम

🌟 अभिजित मुहूर्त : 12:00 पी एम से 12:55 पी एम

🔯 विजय मुहूर्त : 02:44 पी एम से 03:39 पी एम

🐃 गोधूलि मुहूर्त : 07:17 पी एम से 07:37 पी एम

🏙️ सायाह्न सन्ध्या : 07:18 पी एम से 08:20 पी एम

💧 अमृत काल : 12:46 पी एम से 02:14 पी एम

🗣️ निशिता मुहूर्त : 12:07 ए एम, जुलाई 23 से 12:48 ए एम, जुलाई 23

⭐ सर्वार्थ सिद्धि योग : 05:37 ए एम से 10:21 पी एम

🚓 यात्रा शकुन – मीठा दूध पीकर  यात्रा करें।

👉🏽 आज का मन्त्र – ॐ सौ सौमाय नम:।

💁🏻 आज का उपाय – शिवलिंग का दुग्धाभिषेक करें।

🌳 वनस्पति तंत्र उपाय – पलाश के वृक्ष में जल चढ़ाएं।

⚛️ पर्व एवं त्यौहार – श्रावण मास प्रारंभ/ साईं बाबा उत्सव समाप्ति शिर्डी, अशून्य शयन व्रत, श्रावण माह प्रथम सोमवार, राष्ट्रीय आम दिवस, प्रसिद्ध पार्श्व गायक मुकेश जन्म दिवस, मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस जन्म दिवस, राष्ट्रीय ध्वज अंगीकरण दिवस, पाई सन्निकटन दिवस, राष्ट्रीय चूहा पकड़ने वाला दिवस, फ्रैजाइल एक्स जागरूकता दिवस, राष्ट्रीय अच्छा टीममेट दिवस, राष्ट्रीय झूला दिवस, राष्ट्रीय पेनुचे फज दिवस

✍🏼 विशेष – प्रतिपदा तिथि को कद्दू एवं कूष्माण्ड का दान एवं भक्षण दोनों ही त्याज्य बताया गया है। प्रतिपदा तिथि वृद्धि देनेवाली तिथि मानी जाती है। साथ ही प्रतिपदा तिथि सिद्धिप्रद तिथि भी मानी जाती है। इस प्रतिपदा तिथि के स्वामी अग्नि देवता हैं। यह प्रतिपदा तिथि नन्दा नाम से विख्यात मानी जाती है।

 

             🗽 वास्तु ज्ञान 🗺️

 

पूजा स्थल पर भगवान शिव या भगवान शिव के परिवार की तस्वीर लगानी चाहिए। वास्तु के अनुसार भगवान शिव के परिवार की तस्वीरें उत्तर दिशा में लगानी चाहिए।

शिव पूर्णता के प्रतीक हैं। अपने घर में शिव तांडव की मूर्तियां या भगवान शिव की क्रोधित तस्वीरें न रखें।

अगर आप अपने घर में शिवलिंग स्थापित करने के बारे में सोच रहे हैं तो सावन का महीना आपके लिए सबसे अच्छा विकल्प है। हालांकि, शिवलिंग की दिशा का भी ध्यान रखना जरूरी है। घर के ईशान कोण यानि उत्तर और पूर्व की दिशा के बीच में शिवलिंग रखें। उत्तर और पूर्व के मध्य की या दिशा सदैव शुभ रहती है।

वास्तु शास्त्र में इस दिशा को बहुत शुभ माना जाता है। इस दिशा को देवी-देवताओं की दिशा कहा जाता है। साथ ही सावन के दौरान "ॐ   नमः शिवाय" का जाप भी अवश्य करें।

 

         ♻️ जीवनोपयोगी कुंजियां ⚜️

 

चूना जो पान में लगा के खाया जाता है , उसकी एक डिब्बी ला कर घर में रखे .

यह सत्तर प्रकार की बीमारियों को ठीक कर देता है। गेहूँ के दाने के बराबर चूना गन्ने के रस में मिलाकर पिलाने से बहुत जल्दी #पीलिया ठीक हो जाता है।

चूना नपुंसकता की सबसे अच्छी दवा है – अगर किसी के शुक्राणु नही बनता उसको अगर गन्ने के रस के साथ चूना पिलाया जाये तो साल डेढ़ साल में भरपूर शुक्राणु बनने लगेंगे। जिन माताओं के शरीर में अन्डे नही बनते उन्हें भी इस चूने का सेवन करना चाहिए।

शुगर रोज़ सुबह ख़ाली पेट एक गिलास पानी में एक छोटे चने के बराबर चुना मिलकर पीने से शुगर जड़ से ख़त्म हो जाती हैं ( समय समय पर जाँच करवाते रहे.. वरना शुगर का लेवल माइनस भी हो सकता हैं )

 

            🍷 आरोग्य संजीवनी 🥃

 

गुणकारी आँवले के कुछ औषधीय प्रयोग

जिन्हें भोजन में अरुचि हो या भूख कम लगती हो उन्हें भोजन से पहले 2 चम्मच आँवला रस में 1 चम्मच शहद मिलाकर लेना लाभकारी है ।

नाक, मूत्रमार्ग, गुदामार्ग से रक्तस्राव, योनिमार्ग में जलन व अतिरिक्त रक्तस्राव, पेशाब में जलन, रक्तप्रदर, त्वचा-विकार आदि समस्याओं में आँवला रस अथवा आँवला चूर्ण दिन में दो बार लेना लाभदायी है ।

आँवला रस में 4 चुटकी हल्दी मिलाकर दिन में दो बार लें । यह सभी प्रकार के प्रमेहों में श्रेष्ठ औषधि है ।

अम्लपित्त, सिरदर्द, सिर चकराना, आँखों के सामने अँधेरा छाना, उलटी होना आदि में आँवला रस या चूर्ण मिश्री मिलाकर लेना फायदेमंद है ।

रक्ताप्लता या पीलिया जैसे विकारों में आँवला चूर्ण का दिन में 2 बार उपयोग करने से रस-रक्त का पोषण होकर इन विकारों में लाभ होता है।

 

            🌷 गुरु भक्ति योग 🌸

 

         एक भक्त के श्राप से पत्थर के बन गए थे भगवान, माता सीता से भी होना पड़ा था अलग

        पौराणिक कथा के अनुसार राक्षस कुल में एक वृंदा नाम की लड़की का जन्म हुआ था. वह लड़की भगवान विष्णु की परम भक्त थी. वह भगवान श्रीहरिविष्णु की पूजा में लीन रहती थी.जब वह लड़की बड़ी हुई तो उसका विवाह राक्षस कुल में दानवराज जलंधर से हुआ था. जालंधर के विषय में देवीभागवतपुराण में कथा है कि एक बार भगवान शिव ने अपने तेज का अंश समुद्र में छोड़ दिया था, जिससे जालंधर नाम बालक का जन्म हुआ. जब दैत्य गुरु शुक्राचार्य की दृष्टि उस बालक पर पड़ी तो वे उसे अपने साथ ले आए.

         दैत्यगुरु शुक्राचार्य ने मायावी ज्ञान जालंधर को दे दिया, इससे वह काफी अधिक बलशाली हो गया था. इसके चलते उसे दैत्यों का राजा नियुक्त कर दिया गया. उसका विवाह वृंदा से हुआ था. वृंदा भगवान विष्णु की अनन्य भक्त थीं. उनकी भक्ति और पति प्रेम के कारण जालंधर का सामना कोई भी नहीं कर पाता था. सभी देवता उससे पराजित हो जाते थे.

         शक्तियों पर हो गया था अहंकार जालंधर को अपनी शक्तियों पर अहंकार हो गया था. उसने भगवान विष्णु की पत्नी माता लक्ष्मी को मारना चाहा. इसके लिए वह जब बैकुंठ धाम गया तो वहां पर माता लक्ष्मी को देखकर वह मोहित हो गया. माता लक्ष्मी ने अपनी रक्षा के कहा कि ‘हे जालंधर तुम्हारे मन में जो भी ख्याल आया है उसे त्याग दो. जल से जन्म लेने के कारण मैं और तुम भाई-बहन हैं. इस कारण जो तुम सोच रहे हो, वह संभव नहीं है.’ इस बात से जालंधर प्रभावित हो गया और उसने माता लक्ष्मी को पाने का ख्याल खुद से निकाल दिया.

         माता पार्वती के लिए कैलाश पहुंचा जालंधर जालंधर ने माता पार्वती को पाने का विचार बनाया और वह कैलाश पर माता के सामने पहुंचा. माता पार्वती ने जालंधर के मन की बात जान ली और गुस्से में आकर उन्होंने अस्त्र उठा लिया. जालंधर को पता था कि माता देवी दुर्गा का ही रूप हैं. इस कारण वह वहां से भाग गया और भगवान शिव के साथ युद्ध करने लगा. उसकी पतिव्रता स्त्री वृंदा के तप के कारण भगवान शिव के हर प्रहार जालंधर का कुछ नहीं बिगाड़ पा रहे थे.

       माता पार्वती पहुंची भगवान विष्णु के पास  जब माता पार्वती ने यह देखा तो वे भगवान विष्णु के पास पहुंची और उनको सारी बात बताई. माता पार्वती की बात सुनकर भगवान विष्णु ने जालंधर का रूप बनाया और वृंदा के पास पहुंच गए. वृंदा ने भगवान विष्णु को अपना पति समझकर उनके साथ पत्नी जैसा व्यहार करना शुरू कर दिया. इससे वृंदा का पतिव्रता धर्म टूट गया और इससे जालंधर का भगवान शिव ने वध कर दिया.

        पत्थर के बन गए भगवान  जालंधर के वध की बात जब देवी वृंदा को पता चली तो उन्होंने उनके पति के रूप में रहने वाले भगवान विष्णु से उनके असली रूप में आने को कहा, जब उन्होंने देखा कि वे भगवान विष्णु हैं तो उन्होंने क्रोध में आकर उनको श्राप दिया कि आप पत्नी वियोग में दर-दर भटकेंगे. इसके साथ ही आप काले पत्थर के हो जाएंगे. वृंदा के श्राप के चलते भगवान विष्णु काले पत्थर के हो गए. इसी को भगवान विष्णु का शालिग्राम स्वरूप कहा गया. इसको देखते हुए सारे देवताओं में हाहाकार मच गया. सारे देवता और माता लक्ष्मी वृंदा के पास पहुंची और भगवान विष्णु को पत्थर बनने से श्राप से मुक्त करने को कहा. इस पर वृंदा ने उनको पूर्व रूप वापस दे दिया. इसके बाद उनका वृंदा से विवाह हुआ.

       खुद हो गईं सती वृंदा खुद जालंधर के साथ सती हो गईं. उनकी राख के ऊपर तुलसी का पौधा उगा. उस दिन से तुलसी के पौधे को वृंदा का स्वरूप माना गया है. भगवान विष्णु बिना तुलसी के भोग स्वीकार नहीं करते हैं. वृंदा के श्राप के कारण ही भगवान विष्णु को प्रभु श्रीराम स्वरूप में दर-दर पत्नी वियोग में दर-दर भटकना पड़ा था.

 

◄┉┉┉┉┉┉༺✦ᱪ✦༻┉┉┉┉┉┉►

 

⚜️ प्रतिपदा तिथि शुक्ल पक्ष में अशुभ तथा कृष्ण पक्ष में शुभ फलदायिनी मानी जाती है। आज प्रतिपदा तिथि को अग्निदेव से धन प्राप्ति के लिए एक अत्यंत ही प्रभावी उपाय कर सकते हैं। इस अनुष्ठान से अग्निदेव से अद्भुत तेज प्राप्त करने के लिए भी आज का यह उपाय कर सकते हैं। साथ ही आज किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति भी इस अनुष्ठान के माध्यम से अग्निदेव से करवायी जा सकती हैं। इसके लिए आज अग्नि घर पर ही प्रज्ज्वलित करके गाय के शुद्ध देशी घी से (ॐ अग्नये नम: स्वाहा) इस मन्त्र से हवन करना चाहिये।

शास्त्र के अनुसार जिस व्यक्ति का जन्म प्रतिपदा तिथि में होता है वह व्यक्ति अनैतिक कार्यों में संलग्न रहने वाला होता है। ऐसा व्यक्ति कानून के विरूद्ध जाकर काम करने वाला भी होता है। ऐसे लोगों को मांस मदिरा काफी पसंद होता है अर्थात ये तामसी भोजन के शौकीन होते हैं। आम तौर पर इनकी दोस्ती ऐसे लोगों से होती है जिन्हें समाज में सम्मान की दृष्टि से नहीं देखा जाता अर्थात बदमाश और ग़लत काम करने वाले लोग।

 

👉🏽 22 जुलाई 2024 : को श्रावण कृष्ण पक्ष की उदया तिथि प्रतिपदा और सोमवार का दिन है। प्रतिपदा तिथि सोमवार दोपहर 1 बजकर 12 मिनट तक रहेगी। 22 जुलाई को शाम 5 बजकर 58 मिनट तक प्रीति योग रहेगा। साथ ही सोमवार को रात 10 बजकर 21 मिनट तक श्रवण नक्षत्र रहेगा। इसके अलावा 22 जुलाई को अशून्य शयन व्रत किया जाएगा। सोमवार से सावन माह का आरंभ भी हो रहा है। 22 जुलाई को सावन का पहला सोमवार का व्रत रखा जाएगा। आइए जानते हैं आचार्य श्री गोपी राम से राशि अनुसार कैसे रहेगा आपका आज का दिन और किन उपाय से बेहतर बना सकते हैं आज का दिन।

🐑 मेष राशि : आपकी ऊर्जा का स्तर ऊँचा रहेगा। आपको अपने अटके कामों को पूरा करने में इसका इस्तेमाल करना चाहिए। कोई बेहतरीन नया विचार आपको आर्थिक तौर पर फ़ायदा दिलायेगा। शाम को साथियों का साथ मज़ेदार रहेगा। अप्रत्याशित रोमांस आपको अचानक मिल सकता है, अगर आप दोस्तों के साथ शाम को बाहर घूमने जाते हैं तो। अगर आप सीधा जवाब नहीं देंगे तो आपके सहयोगी आपसे नाराज़ हो सकते हैं। आप खाली समय में अपने पसंदीदा काम करना पसंद करते हैं, आज भी आप ऐसा ही कुछ करने का सोचेंगे लेकिन किसी शख्स के घर में आने की वजह से आपका यह प्लान चौपट हो सकता है। आपका जीवनसाथी वाक़ई आपके लिए फ़रिश्तों की तरह है और आपको आज यह एहसास होगा।

🪶 उपाय :- घर से थोड़ी दूर स्थिति पीपल में जल दें व शाम के समय उसकी जड़ में दीपक जलाने से नौकरी/बिज़नेस में तरक्की होगी।

 

🐂 वृषभ राशि : आज आप ऊर्जा से लबरेज़ होंगे- आप जो भी करेंगे उसे आप उससे आधे वक़्त में ही कर देंगे, जितना वक़्त आप अक्सर लेते हैं। अपने निवेश और भविष्य की योजनाओं को गुप्त रखें। बच्चे आपको अपनी उपलब्धियों से गर्व का अनुभव कराएंगे। आपका साहस आपको प्यार दिलाने में सफल रहेगा। आपके लिए आज बहुत सक्रिय और लोगों से मेल-जोल भरा दिन रहेगा। लोग आपसे आपकी राय मांगेंगे और जो भी आप कहेंगे, उसे बिना सोचे मान लेंगे। अपने घर में बिखरी चीजों को संभालने का आज आप प्लान करेंगे लेकिन आपको इसके लिए आज खाली समय नहीं मिल पाएगा। यह दिन शादीशुदा ज़िन्दगी के सबसे ख़ास दिनों में से एक रहेगा।

🪶 उपाय :- आर्थिक स्थिति अच्छी करने के लिए लहसुन या प्याज की गाँठ बहते जल में प्रवाहित करें।

 

👩‍❤️‍👨 मिथुन राशि : रक्तचाप के मरीज़ों को ख़ास ख़याल रखने और दवा-दारू करने की ज़रूरत है। साथ ही उन्हें कॉलेस्ट्रोल को क़ाबू में रखने की कोशिश भी करनी चाहिए। ऐसा करना आगे काफ़ी लाभदायक सिद्ध होगा। लम्बे अरसे को मद्देनज़र रखते हुए निवेश करें। बच्चे की तबियत परेशानी का कारण बन सकती है। व्यक्तिगत मार्गदर्शन आपके रिश्ते में सुधार लाएगा। यह दूसरे देशों में व्यावसायिक सम्पर्क बनाने का बेहतरीन समय है। आपके हँसने-हँसाने का अन्दाज़ आपकी सबसे बड़ी पूंजी साबित होगा। आपका जीवनसाथी बिना जाने कुछ ऐसा ख़ास काम कर सकता है, जिसे आप कभी भुला नहीं पाएंगे।

🪶 उपाय :- केसर का तिलक लगाएं, इससे पारिवारिक जीवन अच्छा चलेगा।

 

🦀 कर्क राशि : परिवार के कुछ सदस्य अपने ईर्ष्यालु स्वभाव से आपके लिए झुंझलाहट की वजह बन सकते हैं। लेकिन अपना आपा खोने की ज़रूरत नहीं है, नहीं तो हालात बेक़ाबू हो सकते हैं। याद रखें, जिसे सुधारा नहीं जा सकता, उसे स्वीकार करने में ही भलाई है। दीर्घावधि मुनाफ़े के नज़रिए से स्टॉक और म्यूचुअल फ़ंड में निवेश करना फ़ायदेमंद रहेगा। पढ़ाई की क़ीमत पर घर से ज़्यादा देर तक बाहर रहना आपको माता-पिता के ग़ुस्से का शिकार बना सकता है। करिअर के लिए योजना बनाना उतना ही आवश्यक है, जितना कि खेलना-कूदना। इसलिए माता-पिता को ख़ुश करने के लिए दोनों में संतुलन बनाना ज़रूरी है। आपको प्यार में ग़म का सामना करना पड़ सकता है। दलालों और व्यावसायियों के लिए अच्छा दिन हैं, क्योंकि उन्हें मांग में इज़ाफ़े से फ़ायदा होगा। इस राशि के लोगों को आज अपने आप को समझने की जरुरत है। यदि आपको लगता है कि आप दुनिया की भीड़ में कहीं खो गये हैं तो अपने लिए वक्त निकालें और अपने व्यक्तित्व का आकलन करें। हँसी-मजा़क के बीच आपके और आपके जीवनसाथी के बीच कोई पुराना मुद्दा उभर सकता है, जो फिर वाद-विवाद का रूप भी ले सकता है।

🪶 उपाय :- दूध, दही, घी, कपूर, सफेद फूल का दान करने से हेल्थ अच्छी रहेगी।

 

🦁 सिंह राशि : दोस्त से मिली ख़ास तारीफ़ ख़ुशी का ज़रिया बनेगी। ऐसा इसलिए है क्योंकि आपने अपनी ज़िंदगी को पेड़ की तरह बना लिया है, जो ख़ुद तपती धूप में खड़ा होकर और उसे सहकर भी राहगीरों को छांव देता है। दिन भर भले ही आप धन को लेकर जूझते रहें लेकिन शाम के वक्त आपको धन लाभ हो सकता है। आपके दोस्त आपको ऐसे वक़्त पर दग़ा दे सकते हैं, जब आपको उनकी सबसे ज़्यादा ज़रूरत हो। आज किसी ऐसे इंसान से मिलने की संभावना है जो आपके दिल को गहराई से छूएगा। आज कार्यालय में आपको कुछ अच्छा समाचार सुनने को मिल सकता है। किसी नये काम के आगाज के लिए आपको पहले उसके बारे में अनुभवी लोगों से बात करनी चाहिए। अगर आज आपके पास समय है तो उस क्षेत्र के अनुभवी लोगों से मिल लें जो काम आप शुरु करने वाले हैं। आज आप एक बार फिर समय में पीछे जाकर शादी के शुरुआती दिनों के प्यार और रुमानियत को महसूस कर सकते हैं।

🪶 उपाय :- गौशाला में सवा किलो जौ दान में देने से पारिवारिक जीवन अच्छा होगा।

 

👰🏻‍♀ कन्‍या राशि : अपना तनाव दूर करने के लिए परिवार वालों की मदद लें। उनकी सहयता को खुले दिल से स्वीकारें। अपनी भावनाओं को दबाएँ और छुपाएँ नहीं। अपने जज़्बात दूसरों के साथ साझा करने से फ़ायदा मिलेगा। अतिरिक्त आय के लिए अपने सृजनात्मक विचारों का सहारा लें। रिश्तेदारों के यहाँ छोटी यात्रा आपके भागदौड़ भरे दिन में आराम और सुकून देने वाली साबित होगी। प्रेमी को आज आपकी कोई बात चुभ सकती है। वो आपसे रुठें इससे ही पहले ही अपनी गलती का अहसास कर लें और उन्हें मना लें। ऑफिस में आज आपको स्थिति को समझते हुए ही व्यवहार करना चाहिए। अगर आपका बोलना जरुरी नहीं है तो चुप रहें, कोई भी बात जबरदस्ती बोलकर आप खुद को परेशानी में डाल सकते हैं। किसी पार्क में घूमते समय आज आपकी मुलाकात किसी ऐसे शख्स से हो सकती है जिससे अतीत में आपके मतभेद थे। वैवाहिक जीवन का आनन्द लेने के पर्याप्त मौक़े हैं आज आपके पास।

🪶 उपाय :- इमली के पेड़ को जल से सींचने से स्वास्थ्य अच्छा रहेगा।

 

⚖️ तुला राशि : मौज-मस्ती की यात्राएं और सामाजिक मेलजोल आपको ख़ुश रखेंगे और सुकून देंगे। निवेश करना कई बार आपके लिए बहुत फायदेमंद साबित होता है आज आपको यह बात समझ में आ सकती है क्योंकि किसी पुराने निवेश से आज आपको मुनाफा हो सकता है। आपकी ज्ञान की प्यास आपको नए दोस्त बनाने में मददगार साबित होगी। बहुत ख़ूबसूरत और प्यारे इंसान से मिलने की प्रबल संभावना है। दफ़्तर की राजनीति हो या फिर कोई विवाद, चीज़ें आपके पक्ष में झुकी नज़र आएंगी। आपका प्रेमी आपको पर्याप्त समय नहीं देता यह शिकायत आज आप खुलकर उनके सामने कर सकते हैं। अगर आप अपने जीवनसाथी से स्नेह की आशा रखते हैं, तो यह दिन आपकी आशाओं को पूरा कर सकता है।

🪶 उपाय :- नौकरी व बिज़नेस में तरक्की के लिए सूखे नारियल में भुना आटा, बूरा व खांड भरकर किसी ऐसे स्थान में दबाएं जहाँ काली चींटियाँ उसे खा सकें।

 

🦂 वृश्चिक राशि : भरे-पूरे और संतुष्ट जीवन के लिए अपनी मानसिक दृढ़ता में वृद्धि कीजिए। जिन लोगों ने अपना पैसा सट्टेबाजी में लगा रखा था आज उन्हें नुक्सान होने की संभावना है। सट्टेबाजी से दूर रहने की आपको सलाह दी जाती है। घरेलू ज़िन्दगी में कुछ तनाव का सामना करना पड़ सकता है। आज आपके और आपके प्यार के बीच कोई आ सकता है। आपको अपने भागीदार को आपकी योजना से जुड़े रहने के लिए मनाने में दिक़्क़त होगी। आज आप कोई नई पुस्तक खरीदकर किसी कमरे में खुद को बंद करके पूरा दिन गुजार सकते हैं। मुमकिन है कि आपका जीवनसाथी आज आपके लिए पर्याप्त समय न निकाल पाए।

🪶 उपाय :- केले न खाना आर्थिक स्थिति के लिए अच्छा रहेगा।

 

🏹 धनु राशि : आप ख़ुद को ऊर्जा से सराबोर महसूस करेंगे- लेकिन काम का बोझ आपमें खीज पैदा करेगा। आज आप अपने घर केे सदस्यों को कहीं घुमाने ले जा सकते हैं और आपका काफी धन खर्च हो सकता है। दोस्तों को अपने उदार स्वभाव का ग़लत फ़ायदा न उठाने दें। आपके प्रेम की राह एक ख़ूबसूरत मोड़ ले सकती है। आज आपको पता चलेगा कि फ़िजा़ओं में जब प्यार घुलता है तो कैसा महसूस होता है। कार्यालय में सबकुछ आपके पक्ष में जाता नज़र आ रहा है। अपने घर में बिखरी चीजों को संभालने का आज आप प्लान करेंगे लेकिन आपको इसके लिए आज खाली समय नहीं मिल पाएगा। अगर थोड़ी-सी कोशिश की जाए तो जीवनसाथी के साथ आज का दिन आपकी ज़िन्दगी के सबसे रोमानी दिनों में से एक हो सकता है।

🪶 उपाय :- गंगाजल को घर में छिड़कना पारिवारिक जीवन में सुख शांति देगा।

 

🐊 मकर राशि : आपका आकर्षक बर्ताव दूसरों का ध्यान आपकी तरफ़ खींचेगा। धन से जुड़ा कोई मसला आज हल हो सकता है और आपको धन लाभ हो सकता है। आप दोस्तों के साथ बेहतरीन वक़्त बिताएंगे, लेकिन गाड़ी चलाते वक़्त ज़्यादा सावधानी बरतें। लवमेट आज आपसे किसी चीज की डिमांड कर सकता है लेकिन आप उसे पूरा नहीं कर पाएंगे जिसकी वजह से आपका लवमेट आपसे नाराज हो सकता है। यह दूसरे देशों में व्यावसायिक सम्पर्क बनाने का बेहतरीन समय है। आज के दिन अधिकांश समय ख़रीदारी और दूसरी गतिविधियाँ में जाएगा। आज आपको और आपके जीवनसाथी को प्यार-मुहब्बत के लिए पर्याप्त समय मिल सकता है।

🪶 उपाय :- पारिवारिक खुशियों की प्राप्ति के लिए अपने पिता की आज्ञा का पालन करना चाहिए।

 

⚱️ कुम्भ राशि : आपका रूख़ा बर्ताव आपके जीवनसाथी का मूड ख़राब कर सकता है। आपको समझना चाहिए कि किसी का अनादर और गम्भीरता से न लेना रिश्ते में दरार डाल सकता है। व्यापार में आज अच्छा खास मुनाफा होने की संभावना है। आज के दिन आप अपने बिजनेस को नई ऊंचाईयां दे सकते हैं। प्रभावशाली और महत्वपूर्ण लोगों से परिचय बढ़ाने के लिए सामाजिक गतिविधियाँ अच्छा मौक़ा साबित होंगी। आज अपने प्रिय से दूर होने का दुःख आपको टीस देता रहेगा। अगर आप सीधा जवाब नहीं देंगे तो आपके सहयोगी आपसे नाराज़ हो सकते हैं। जिन लोगों के घर वाले शिकायत करते हैं कि वो घरवालों को पर्याप्त समय नहीं देते वो आज घरवालों को समय देने के बारे में सोच सकते हैं लेकिन ऐन वक्त पर किसी काम के आने की वजह से ऐसा नहीं हो पाएगा। अलग-अलग नज़रिए के चलते आपके और आपके जीवनसाथी के बीच वाद-विवाद हो सकता है।

🪶 उपाय :- अच्छे स्वास्थ्य के लिए जेब में लाल रंग का रुमाल रखें।

 

🐬 मीन राशि : किसी दोस्त के साथ ग़लतफ़हमी अप्रिय हालात खड़े कर सकती है, किसी भी फ़ैसले पर पहुँचने से पहले संतुलित नज़रिए से दोनों पक्षों को जाँचें। आज के दिन आप ऊर्जा से लबरेज़ रहेंगे और मुमकिन है कि अचानक अनदेखा मुनाफ़ा भी मिले। ऐसा लगता है कि पारिवारिक-मोर्चे पर आप ज़्यादा ख़ुश नहीं हैं और कुछ अड़चनों का सामना कर रहे हैं। आज आपको अपने प्रिय की याद सताएगी। दफ़्तर की राजनीति हो या फिर कोई विवाद, चीज़ें आपके पक्ष में झुकी नज़र आएंगी। अगर आप शादीशुदा हैं और आपके बच्चे भी हैं तो वो आज आपसे शिकायत कर सकते हैं क्योंकि आप उनको पर्याप्त समय नहीं दे पाते। अपने जीवनसाथी की नुक़्ताचीनी से आप आज परेशान हो सकते हैं, लेकिन वह आपके लिए कुछ बढ़िया भी करने वाला है।

🪶 उपाय :- सोते समय एक तांबे के पात्र में जल रखकर अगली सुबह घर के पास वाले पेड़ की जड़ में उस जल को डालने से सेहत अच्छी रहेगी।

 

✍🏼 *नोट : हमारे द्वारा भेजी गई राशिफल में और आपकी कुंडली व राशि के ग्रहों के आधार पर आपके जीवन में घटित हो रही घटनाओं में कुछ भिन्नता हो सकती है। पूरी जानकारी के लिए किसी पंडित जी या ज्योतिषी से मिल सकते हैं।

 

🤷🏻‍♀ आज जिन भाई-बहनों का जन्मदिन या शादी की सालगिरह है उन सभी भाई-बहनों को हार्दिक शुभकामनाएँ

 

🕉️ 22 जुलाई 2024 : सावन में 72 साल बाद आएगा दुर्लभ संयोग, इन राशि वालों के दुख-दर्द होंगे दूर.

 

हिंदू धर्म में सावन को पवित्र महीना माना जाता है, जोकि भगवान शिव  को अत्यंत प्रिय है. इसलिए इस महीने भगवान शिव की विशेष पूजा-अर्चना करने और व्रत रखने का विधान है. साथ ही सावन महीने में पड़ने वाले सोमवार का दिन भी अधिक महत्वपूर्ण माना गया है.

 

आचार्य श्री गोपी राम के अनुसार इस वर्ष सावन की शुरुआत 22 जुलाई 2024 से हो रही है, जिसका समापन 19 अगस्त 2024 को होगा. ऐसे में इस साल सावन का महीना 29 दिनों का होगा. वहीं ज्योतिष गणना के अनुसार इस वर्ष शिवभक्तों पर भगवान शिव की विशेष कृपा रहेगी, क्योंकि कई शुभ और दुर्लभ योग में सावन की शुरुआत हो रही है.

 

🔯 कई दुर्लभ संयोग में सावन की शुरुआत

 

👉🏽 इस सावन में ऐसे संयोग बन रहे हैं, जोकि इसकी महत्ता को बढ़ा रहे हैं. बताया जा रहा है कि ऐसा दुर्लभ संयोग सावन में पूरे 72 साल बाद बना है. सावन की शुरुआत सोमवार के दिन से हो रही है और इसका समापन भी सोमवार को ही होगा. साथ ही सावन के पहले दिन सोमवार, प्रीति योग, आयुष्मान योग और सर्वार्थ सिद्धि योग रहेगा. इन्हीं शुभ योग के कारण सावन का महीना बहुत शुभ होगा.

 

▶️ प्रीति योग : 21 जुलाई 2024 रात 11 बजकर 11 मिनट से अगले दिन 22 जुलाई 2024 की रात 8 बजकर 50 मिनट तक

 

▶️ सिद्धि योग : 22 जुलाई 2024 को पूरे दिन

 

▶️ आयुष्मान योग : 22 जुलाई 2024 रात 8 बजकर 50 मिनट से अगले दिन तक.

 

🤷🏻 सावन के साथ इन राशियों के जीवन में होगा खुशियों का आगमन सावन 2024 की लक्की राशियां

 

🌧️ सावन में बनने वाले इन शुभ और दुर्लभ योग का सकारात्मक प्रभाव कई राशियों पर पड़ेगा. इन राशियों पर भगवान शिव की विशेष कृपा रहेगी और जीवन में चल रही परेशानियों से इन्हें छुटकारा मिलेगा. आइये जानते हैं आचार्य श्री गोपी राम से सावन के साथ किन राशियों के जीवन में होगा खुशहाली का आगमन.

 

🐑 मेष राशि : आपके लिए सावन का महीना बहुत शुभ साबित होगा और जीवन में खुशियों की वर्षा होगी. प्रेमी और वैवाहिक जीवन के लिए समय अच्छा रहेगा और आर्थिक रूप से भी मजबूत रहेंगे.

 

🦁 सिंह राशि : सिंह राशि वालों के लिए सावन शुभता लिए आएगा. आपके करियर और कारोबार क्षेत्र में सफलता के योग बनेंगे और आय के नए-नए मार्ग प्रशस्त होंगे. भगवान शिव की कृपा से इस दौरान रुके हुए काम भी फिर से चल पड़ेंगे.

 

⚖️ तुला राशि : तुला राशि वालों को सावन में धन, वाहन और जमीन का सुख मिलने की प्रबल संभावना है. साथ ही पैसों से जुड़ी परेशानी भी दूर होगी.

 

🐊 मकर राशि : आपके लिए सावन मास किसी वरदान से कम नहीं होगा. इस समय आप मनचाही सफलता को हासिल करेंगे और समाज में आपका मान-सम्मान बढ़ेगा. धार्मिक कार्यों की ओर आपकी रुचि भी बढ़ेगी.

जानिए पहला सोमवार का व्रत किस दिन रखा जाएगा…..

 

सावन का महीना भगवान भोलेनाथ को समर्पित है। इस पूरे माह में शिवजी की आराधना की जाती है। धार्मिक मान्यताओं के मुताबिक, सावन मास महादेव को अति प्रिय है। इस माह में शिव शंकर अपने भक्तों पर अपार कृपा बरसाते हैं। सावन में कांवड़ यात्रा भी निकाली जाती है। झारखंड के देवघर में विश्व प्रसिद्ध श्रावणी मेला का आयोजन किया जाता है। लाखों की संख्या में भक्तगण कांवड़ लेकर  बाबा धाम पहुंचते और बैद्यनाथ मंदिर में शिवलिंग पर जल अर्पित करते हैं। तो आइए जानते हैं आचार्य साल सावन मास कब से शुरू हो रहे हैं और पहला सोमवार का व्रत किस दिन रखा जाएगा।

 

🌧️ 2024 में सावन कब से शुरू है?

 

इस साल का सावन पावन महीना 22 जुलाई 2024 से हो रहा है। पूरे एक माह तक भक्तगण शिव भक्ति में लीन रहेंगे। भगवान शिव को प्रसन्न करने और उनकी विशेष कृपा पाने के लिए सावन का महीना अति उत्तम माना जाता है। पहला सावन सोमवार का व्रत 22 जुलाई को ही रखा जाएगा। बता दें कि इस साल सावन में पांच सोमवार पड़ेंगे। बता दें कि सावन का महीना 19 अगस्त को खत्म होगा, इसी दिन आखिरी सावन सोमवार का व्रत रखा जाएगा।

 

🤷🏻 सावन सोमवार का महत्व

 

सावन सोमवार का विशेष महत्व बताया गया है। सोमवार का व्रत रखने से कुंवारी कन्याओं को मनचाहा जीवनसाथी की प्राप्ति होती है। साथ ही और शिव-गौरी जैसा दांपत्य जीवन का सुख मिलता है। वहीं सावन में भगवान शिव और मां गौरी की आराधना करने से जीवन की सभी परेशानियां दूर हो जाती हैं और मनोवांछित फलों की प्राप्ति होती है।

 

🧾 2024 सावन सोमवार व्रत लिस्ट

 

➡️ पहला सावन सोमवार व्रत- 22 जुलाई 2024

 

➡️ दूसरा सावन सोमवार व्रत- 29 जुलाई 2024

 

➡️ तीसरा सावन सोमवार व्रत- 5 अगस्त 2024

 

➡️ चौथा सावन सोमवार व्रत- 12 अगस्त 2024

 

➡️ पांचवां सावन सोमवार व्रत- 19 अगस्त 2024

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

*